Rahat Indori Shayari: 20+ Best Shayari In Hindi With Images

Rahat-Indori-Shayari

Rahat Indori shayari Collection: | Rahat Indori shayari in Hindi,  राहत इंदौरी शायरी हिंदी | Rahat Indori Mushaira | Rahat Indori Shayari on Love | rahata Indor Shayari on Life

Rahat Indori Shayari

राहत इंदौरी अपने शायरी के लिए बोहोत Famous है वो अपने शायरी की नज्मों को एक खास शैली में प्रस्तुत करते हैं । Rahat Indori Shayari और Poetry के लिए इंटरनेट पे बोहोत सारे लोग डेली सर्च करते रहते है। दुनिया में जंहा जहां मुशायरे होते है राहत इंदौरी का नाम उनकी कामयाबी की जमानत है हिंदी और उर्दू के हमारे वक्त के सबसे बेहतरीन करिश्मों में से एक है | हम उन्हीं की लिखी हुई Famous Shayari | Status आपके लिए लेके आए है:

बहुत ग़ुरूर है दरिया को अपने होने पर, 
जो मेरी प्यास से उलझे तो धज्जियाँ उड़ जाएँ |

मुझसे पहले वो किसी और की थी, 
मगर कुछ शायराना चाहिए था,
चलो माना ये छोटी बात है, 
पर तुम्हें सब कुछ बताना चाहिए था |

गुलाब खाब ब्दवा जहर जाम क्या क्या है,
मै आगया हूं बता इंतजाम क्या क्या है ।

सूरज चांद सितारे मेरे साथ रहे जब तक तुम्हारा हात मेरे हात में रहे,
शाखों से टूट जाए वो पत्ते नहीं है हम आंधी से कोई कहे कि औक़ात में रहे ।

ये हादसा तो किसी दिन गुजरने वाला था,
मैं बच भी जाता तो एक रोज मरने वाला था,

मुझसे पहले वो किसी और की थी
मगर कुछ शायराना चाहिए था
चलो माना ये छोटी बात है पर
तुम्हे सब कुछ बताना चाहिए था

मेरा नसीब मेरे हाथ कट गए वर्ना
मैं तेरी माँग में सिंदूर भरने वाला था

ये हादसा तो किसी दिन गुज़रने वाला था
मैं बच भी जाता तो इक रोज़ मरने वाला था
अजनबी ख़्वाहिशें सीने में दबा भी न सकूँ,
ऐसे ज़िद्दी हैं परिंदे कि उड़ा भी न सकूँ,

Rahat Indori Shayari Images Download

Rahat Indori Shayari Images in Hindi | rahat indori shayari images download | rahat indori shayari In Hindi Images 

rahat indori shayari in hindi

फूलों की दुकाने खोलो , खुसबू का व्यापार करो,
इश्क़ खता है तो, इसे एक बार नहीं सौ बार करो |

rahat indori shayari in hindi images

जुबां तो खोल, नजर तो मिला, जवाब तो दे 
मैं कितनी बार लुटा हूँ, हिसाब तो दे |

rahat indori shayari on love

राज़ जो कुछ हो इशारों में बता भी देना,
हाथ जब उससे मिलाना तो दबा भी देना |

rahat indori love shayari 2 line

क्या खरीदोगे ये बाजार बहुत महंगा है,
प्यार की ज़िद न करो, प्यार बहुत महंगा है |

About Famous Shayar Rahat Indori

तो दोस्तों अब हम थोड़ा राहत जी के बारे में  जान लेते है जीवन परिचय 

वास्तविक नाम: राहत

उपनाम: राहत इंदौरी

व्यवसाय: कवि, गीतकार, शायर

जन्मतिथि: 1 जनवरी 1950

जन्मस्थान: इंदौर, मध्य प्रदेश, भारत

राष्ट्रीयता: भारतीय

गृहनगर: इंदौर, मध्य प्रदेश, भारत

स्कूल/विद्यालय: नूतन स्कूल इंदौर, मध्य प्रदेश, भारत

महाविद्यालय/विश्वविद्यालय:  इस्लामिया करीमीया कॉलेज (ikdc) इंदौर, मध्य प्रदेश, भारत

पिता :- राफतुल्लाह कुरैशी (एक कपड़ा मिल कर्मचारी)

माता :- मकबूल उन निशा बेगम

पत्नी : सीमा राहत

भाई-बहन :- 3
शौक चित्रकारी करना, यात्रा करना

पसंदीदा खेल: हॉकी और फुटबॉल
बच्चे बेटा :- फ़ैसल राहत, सतलज़ राहत

राहत इंदौरी शायरी हिंदी

अजीब लोग हैं मेरी तलाश में मुझको,
वहाँ पर ढूंढ रहे हैं जहाँ नहीं हूँ मैं,
मैं आईनों से तो मायूस लौट आया था,
मगर किसी ने बताया बहुत हसीं हूँ मैं।

उंगलिया यूँ न सब पर उठाया करो
खर्च करने से पहले कमाया करो
ज़िन्दगी क्या है खुद ही समझ जाओगे
बारिश में पतंगे उड़ाया करो |

हाथ ख़ाली हैं तेरे शहर से जाते जाते,
जान होती तो मेरी जान लुटाते जाते,
अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है,
उम्र गुज़री है तेरे शहर में आते जाते |

Rahat Indori Shayari on Love

Rahat Indori Shayari On Love | Rahat Indori Love shayari in Hindi:

जुबां तो खोल, नजर तो मिला,
जवाब तो दे मैं कितनी बार लुटा हूँ, हिसाब तो दे

तेरी हर बात मोहब्बत में गँवारा करके,
दिल के बाज़ार में बैठे हैं खसारा करके,
मैं वो दरिया हूँ कि हर बूंद भंवर है जिसकी,
तुमने अच्छा ही किया मुझसे किनारा करके।

यूं तो हर फूल कहता है की तोड़ो मत
दिल मचलता है तो कहता है छोड़ो मत |

घर के बाहर ढूँढता रहता हूँ दुनिया,
घर के अंदर दुनिया-दारी रहती है |

सूरज सितारे चाँद मिरे सात में रहे,
जब तक तुम्हारे हात मिरे हात में रहे |

Rahat Indori Mushaira Shayari 2020

Rahat Indori shayari Mushaira Shayari | Rahat Indori Mushaira In Hindi 

न हम-सफ़र न किसी हम-नशीं से निकलेगा
हमारे पाँव का काँटा हमीं से निकलेगा

उंगलिया यूँ न सब पर उठाया करो
खर्च करने से पहले कमाया करो
ज़िन्दगी क्या है खुद ही समझ जाओगे
बारिश में पतंगे उड़ाया करो |

जवानिओं में जवानी को धुल करते हैं,
जो लोग भूल नहीं करते, भूल करते हैं |

मेरी ख्वाहिश है कि आंगन में न दीवार उठे,
मेरे भाई, मेरे हिस्से की ज़मीं तू रख ले |

न हम-सफ़र न किसी हम-नशीं से निकलेगा,
हमारे पाँव का काँटा हमीं से निकलेगा |

Rahat Indori Shayari Status in Hindi

Rahat Indori Shayari Status in Hindi | Rahat Indori Shayari New | Rahat Indori Status New :

जवानिओं में जवानी को धुल करते हैं
जो लोग भूल नहीं करते, भूल करते हैं
अगर अनारकली हैं सबब बगावत का
सलीम हम तेरी शर्ते कबूल करते हैं

नयी हवाओं की सोहबत बिगाड़ देती हैं
कबूतरों को खुली छत बिगाड़ देती हैं
जो जुर्म करते है इतने बुरे नहीं होते
सज़ा न देके अदालत बिगाड़ देती हैं

साँसों की सीडियों से उतर आई जिंदगी
बुझते हुए दिए की तरह, जल रहे हैं हम
उम्रों की धुप, जिस्म का दरिया सुखा गयी
हैं हम भी आफताब, मगर ढल रहे हैं हम

Rahat indori shayari on Dosti

दोस्ती जब किसी से की जाये,
दुश्मनों की भी राय ली जाए,
बोतलें खोल के तो पि बरसों,
आज दिल खोल के पि जाए |

मैं आ कर दुश्मनों में बस गया हूँ,
यहाँ हमदर्द हैं दो-चार मेरे |

दोस्ती जब किसी से की जाये
दुश्मनों की भी राय ली जाए |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *