Mohabbat Shayari: Pyar ki Suruvat

Mohabbat shayari-Pyar ki Suruvat

Chalo ek baar phir se ajanabee banate hai 
jahaan se suru kiya tha phirase vahaan se pyaar kee suruvaat karate hai.
चलो एक बार फिर से अजनबी बनते है,

जहां से सुरु किया था फिरसे वहां से प्यार की सुरुवात करते है |

Dil kee baat kaise tum baya karogee,
aankhon se pyaar kaise tum chhupaogee,
jab hame hamaaree najarose padhogee to khud ko kaise rokogi |
दिल की बात कैसे तुम बया करोगी,

आंखों से प्यार कैसे तुम छुपाओगी,
जब हमे हमारी नजरोसे पढ़ोगी तो खुद को कैसे रोकोगि | 

Teri khushaboo kee mehek ko jara main mahasoos to karoo 
teri mittee baaton ko jara gaur se to sunoon ,
teri har hasarat ko to main poora karoo.

 तेरी ख़ुशबू की मेहेक को जरा मैं महसूस तो करू,
तेरी मिट्टी बातों को जरा गौर से तो सुनूं ,
तेरी हर हसरत को तो मैं पूरा करू | 

Kya main tere dil ka chor hoon , 
aisa hai to mujhe tere dil kee har baat pata chal jaatee hai |
क्या मैं तेरे दिल का चोर हूँ ,

ऐसा है तो मुझे तेरे दिल की हर बात पता चल जाती है | 

Shyaam savere main tujhe chaahoo, 
har pal main tere dil pe raaj karoo |
श्याम सवेरे मैं तुझे चाहू, 

हर पल मैं तेरे दिल पे राज करू | 

Tere dil main baith jaana itana aasaan kaha tha ,
koee na udae dil ko tere lie har taraph dera jo tha .
तेरे दिल मैं बैठ जाना इतना आसान कहा था,

कोई ना उड़ाए दिल को तेरे लिए  हर तरफ डेरा जो था |

Teri ek jhalak mujhe teree aur kheench gayee ,
phir se tujhe pyaar karane kee vajah mil gayee.
तेरी एक झलक मुझे तेरी और खींच गयी ,

फिर से तुझे प्यार करने की वजह मिल गयी |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *