Mohabbat Shayari, Tere Hi Sapne Saja Ne Lage Hai

Mohabbat Shayari - Tere Hi Sapne Sajane Lage Hai

Tere hi Sapne Sajane Laga hai
Ye chaand tare tere saamne fike lagne lage hai,
Charon taraf failihe tere badan ki khushbu
Iss khushbu se hame diwane hone lage hai.
तेरे ही सपने सजाने लगे है,
ये चांद तारे तेरे सामने फ़िके लगने लगे है,
चारों ओर फेलिहे तेरे बदन की खुशबू ,
इस खुशबू से हम दीवाने होने लगे है |

Apke bina ab waqt kat ta nahi
kaise bataye kya jyadu hai aapke chehre mein,
jo meri aankho ke samane se hat ta nahi.
आपके बिना अब वक्त कटता नहीं
कैसे बताये…क्या जादू हैं आपके चेहरे में,
जो मेरी आंखो के सामने से हटता नहीं

Husna ke ye jalwe ter, hai tuze bas paana,
Ji bhar ke jara mein dekhu andaz tera mastaana.
हुस्न के ये जलवे तेरे, है तुझे बस पाना,
जी भर के जरा में देखू, अंदाज़ तेरा मस्ताना

Lage kar mere sinese puch meri sasoo se,
ye dil dhadakta hai sirf tere naam se.
लग कर मेरे सिनेसे पूछ मेरी सांसों से,
ये दिल धड़कता है सिर्फ सिर्फ तेरे नाम से

Dekha ek khwab to silsile hue,
ham teri mohabbat mai diwane hue
देखा एक ख्वाब तो सिलसिले हुए,
हम तेरी मोहब्बत में दीवाने हुए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *