Romantic Shayari: Tu Husn ki Nigahon Ko

husn ki nighahon ko romanatic shayari
Tu husn ki nigaahon ko jaanata hai bepanaah,
apanee nigaahon ko bhee kabhee aajama ke dekh.
तू हुस्न कि निगाहों को जानता है बेपनाह,
अपनी निगाहों को भी कभी आजमा के देख|
Dil mera aaj udaas hai tujhase milane kee lagee aas hai,
thoda dard ka ehasaas hai,
jaise dil ka ek tukada aapake paas hain.

दिल मेरा आज उदास है तुझसे मिलने की लगी आस है, 
थोड़ा दर्द का एहसास है,
जैसे दिल का एक टुकड़ा आपके पास हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *